सरहद 

सरहद के उस पार भी एक गाँव है

जहाँ कुछ तेरे जैसे,

जहाँ कुछ मेरे जैसे लोग बसे हैं!

सरहद के उस पार भी ऐसी ही मिट्टी है

सरहद के उस पार भी यही हवा, यही पानी है !

सरहद के उस पार भी कुछ परिवार हैं

वही सपने , वही ग़म, वही ख़ुशियाँ है !

सरहद के उस पार भी छोटे छोटे बच्चे हैं

जिनकी आँखों में बड़े बड़े सपने हैं!

सरहद के उस पर भी दिलों में कुछ अरमान है ।

सरहद के उस पार भी एक माँ एक बाप  है ।
सरहद के उस पर एक गाँव में आग लगी है।

वो आग अभी भी बुझी नहीं है ।

कुछ परिवार बिखर गये हैं !

कुछ सपने टूट गए हैं !

कब से वो छोटा बच्चा सोया नहीं है!

एक माँ की आँखे सुनी हैं !

एक बीवी के आँसू थमे नहीं है!
सरहद के उस पार अब चन्द मकान है !

ना सपने है , ना दर्द हैं!

बस सन्नाटा ही सन्नाटा है!
क्या तुझे मिला , क्या मुझे मिला !

एक ज़मीन का टुकड़ा !

चन्द सिके जो ऊपर भी ना ले जा पायेगा!
सरहद के इस पार भी ऐसा ही गाँव है ।

One thought on “सरहद 

Add yours

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Powered by WordPress.com.

Up ↑

the face in the glass

Life, Love and Lessons Learned

YouthSutra

We've got everything covered

WordCharmer

A free flow of random thoughts

Awesomengers

Think हटK , Be AWESOME !!!

juliecares

My life and career

The Globetrotting Gal

how to backpack the globe

Purple Pants

Presenting Life Delicacies with a Pinch of Salt

Specscladeyes

Words and Photographs

%d bloggers like this: