Month: September 2016

सरहद 

सरहद के उस पार भी एक गाँव है जहाँ कुछ तेरे जैसे, जहाँ कुछ मेरे जैसे लोग बसे हैं! सरहद के उस पार भी ऐसी ही मिट्टी है सरहद के उस पार भी यही हवा, यही पानी है ! सरहद के उस पार भी कुछ … Continue reading सरहद