तन्हाई

आवाज़ों का क़ाफ़िला है!
फिर भी क्यों तन्हाई है ।
दोस्तों की महफ़िल है !
ना जाने क्यों फिर भी यूँ अकेला हूँ ।
रंग ही रंग हैं!
पर सब बेरंग है ।
फूलों के मौसम में यह केसी पतझड़ है !
ख़ुशी के दिन हैं फिर भी ये उदासी है ।
बरसों बीत गये उस आँगन से विदा हुए
आज भी उस घर कि सब यादें ताज़ा हैं।

Author: RUCHI

A wanderer, an imperfect soul, voracious reader trying to find meaning to my exsistence

2 thoughts on “तन्हाई”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s